गुरुवार, मार्च 26, 2020

ययाति पुत्री माधवी - १: ऋषि गालव का हठ

हमारे धर्मग्रंथों में ऐसी कई स्त्रियाँ हैं जिन्हे अपने जीवन में बड़े कष्ट झेलने पड़े किन्तु कुछ स्त्रियाँ ऐसी हैं जिन्हे इतना कुछ झेलना पड़ा जिसे सुनकर हम विश्वास भी नहीं कर सकते कि ऐसा कुछ हो सकता है। ऐसी ही एक कथा चक्रवर्ती सम्राट ययाति की पुत्री माधवी की है। कई जगह उसका नाम वृषदवती बताया गया है। उसके साथ जो हुआ वो कदाचित हम सोच भी नहीं सकते किन्तु अपने पिता के मान के लिए उसने सब सहा।

शुक्रवार, मार्च 20, 2020

कुब्जा

गोकुल वृंदावन में जब श्रीकृष्ण १६ वर्ष के हुए, कंस के निमंत्रण पर अक्रूर उन्हें और बलराम को लेकर मथुरा आ गए। कंस से मिलने से पहले उन्हें कुछ दिन अतिथिशाला में ठहराया गया जहाँ उन्होंने नगर भ्रमण का सोचा। वे दोनों भाई मथुरा की गलियों में भ्रमण करने लगे। वे जिधर भी निकल जाते, लोग उन्हें देखते ही रह जाते। नगर में पहले ही समाचार फ़ैल चुका था कि ये दोनों भाई ही उन्हें कंस के अत्याचारों से मुक्त करवाएंगे।

सोमवार, मार्च 16, 2020

रावण की ७ अपूर्ण इच्छाएं

हमारे कई पौराणिक ग्रंथों में ऐसा वर्णन है कि रावण की कई ऐसी इच्छाएं थी जो वो पूरा नहीं कर पाया। उसकी अपूर्ण इच्छाएं तो बहुत थी किन्तु उनमे से ७ सर्वाधिक प्रसिद्ध हैं। रावण सप्तद्वीपाधिपति था, नवग्रह उसके अधीन रहते थे और स्वयं भगवान रूद्र की उसपर कृपा थी। किन्तु उसके बाद भी, अपने हर प्रयासों के बाद भी उसकी ये ७ इच्छाएं पूरी नहीं हो सकी। आइये इनके बारे में कुछ जानते हैं। 
  1. स्वर्ग तक सोपान का निर्माण: लंका का अधिपति बनने के बाद रावण ने स्वर्ग पर आक्रमण करने की ठानी। अपने पुत्र मेघनाद और राक्षस सेना के साथ इंद्र पर आक्रमण किया जहाँ मेघनाद ने इंद्र को परास्त कर इंद्रजीत की उपाधि प्राप्त की। देवताओं को पराभूत कर और नवग्रह को अपने अधीन कर रावण वापस लंका लौट आया। इसके बाद उसके मन में एक इच्छा जागी कि वो पृथ्वी से स्वर्ग तक सीढ़ी का निर्माण करेगा ताकि वो जब चाहे स्वर्ग जा सके। वो ऐसा कर ईश्वर की सत्ता को चुनौती देना चाहता था ताकि लोग ईश्वर को छोड़ को उसकी पूजा करना आरम्भ कर दें। किन्तु वो कभी भी स्वर्ग तक सीढियाँ बनाने में सफल ना हो सका। 

शुक्रवार, मार्च 13, 2020

भगवान शिव को क्यों नहीं चढ़ाया जाता केतकी का फूल?

पिछले लेखों में आपने पढ़ा कि ऐसी कौन कौन सी वस्तुएं हैं जो भगवान शिव को चढ़ाना वर्जित है। इन वस्तुओं में से एक है केतकी का पुष्प। केतकी का पुष्प सफ़ेद रंग का होता है और देखने में बहुत सुन्दर होता है किन्तु फिर भी इसे महादेव को अर्पित नहीं किया जाता क्यूंकि स्वयं भगवान शंकर ने इसे वर्जित किया है। इसके पीछे जो कथा है वो सृष्टि के आरम्भ से पहले की है।

सोमवार, मार्च 09, 2020

भगवान शिव को क्यों नहीं चढ़ाई जाती कुमकुम?

इस श्रृंखला के पिछले लेखों में आपने उन वस्तुओं के विषय में पढ़ा जो भगवान शिव को वर्जित है। इनमें से शंख, तुलसी, लौह पात्र, केतकी और कुमकुम के पीछे विशेष कथा है। शंख, तुलसी एवं लौह पात्र की कथा हम पहले ही धर्मसंसार पर प्रकाशित कर चुके हैं। इस लेख में हम जानेंगे कि आखिर क्या कारण है कि भगवान शिव को कुमकुम नहीं चढ़ाई जाती।

गुरुवार, मार्च 05, 2020

वर्तमान शहरों के प्राचीन नाम

निर्विवाद रूप से भारत वर्ष विश्व की सबसे पुरानी सभ्यता है। ये देव नगरी है। यहाँ के कई नगर अत्यंत प्राचीन हैं। वैसे तो भारत के सहस्त्रों नगरों का प्राचीन नाम अवश्य होगा किन्तु इस लेख में हम केवल कुछ प्रमुख नगरों को ही समाहित कर पाए हैं। अगर आपके पास किसी अन्य नगर के प्राचीन नाम की जानकारी हो तो हमें अवश्य बताएं।

रविवार, मार्च 01, 2020

वैद्यराज चरक - २: चरक संहिता

पिछले लेख में आपने वैद्यराज चरक का जीवन परिचय पढ़ा। कुछ विद्वान संसार को कुछ ऐसा दे कर जाते हैं जिससे वे सदा के लिए इतिहास में अमर हो जाते हैं। जैसे महर्षि वाल्मीकि रामायण, वेदव्यास महाभारत और तुलसीदास रामचरितमानस के लिए जाने जाते हैं। उसी प्रकार वैद्यराज चरक ने एक ऐसे महान ग्रन्थ की रचना की जिससे वे इतिहास में अमर हो गए। वो ग्रन्थ है "चरक संहिता"

सोमवार, फ़रवरी 24, 2020

वैद्यराज चरक - १: परिचय

चरक एक महान वैद्य थे जिन्हे विश्व का सबसे पहला वैद्य माना जाता है। यही नहीं, इन्हे आयुर्वेद का जनक भी माना जाता है। इनके जन्म को लेकर कुछ मतभेद है। कुछ लोग इनका जन्म ईसा से ३०० वर्ष पहले का मानते हैं जबकि अधिकतर लोग इनका जन्म महात्मा बुद्ध से भी पहले का मानते हैं। इसमें से दूसरा मत ही ज्यादा तर्कसंगत लगता है। कुछ लोग चरक और कनिष्क को एक मानते हैं किन्तु ऐसा नहीं है। कनिष्क बौद्ध थे किन्तु चरक साहित्य में बौद्ध मतों का कठोरता से खंडन किया गया है।

सोमवार, फ़रवरी 17, 2020

वस्तुएं जो भगवान शिव को वर्जित है - २

पिछले लेख में आपने उन चौदह वस्तुओं के बारे में पढ़ा जो भगवान शिव को अर्पित नहीं की जाती। जैसे कि पहले बताया गया है कि इस लेख को हम दो भागों में विभक्त करेंगे। इस भाग में हम उन वस्तुओं को समाहित करेंगे जिसे शिवलिंग पर चढाने को शास्त्रों में मना किया गया है। इसके अगले लेखों में हम उन मुख्य वस्तुओं के बारे में अलग से बताएंगे जिसे महादेव पर ना चढाने के पीछे कोई कथा है। तो आइये पहले सामान्य चीजों के बारे में जानते हैं। इस लेख में तीन ऐसी चीजें है जिसके पीछे कथा तो है किन्तु वो पहले ही धर्मसंसार पर प्रकाशित की जा चुकी है। उसके वर्णन के साथ उसका लिंक भी दिया गया है जिसे आप पढ़ सकते हैं।

बुधवार, फ़रवरी 12, 2020

वस्तुएं जो भगवान शिव को वर्जित है - १

भगवान शंकर को भोलेनाथ कहते हैं क्यूंकि वे सहज ही प्रसन्न हो जाते हैं। महादेव ही ऐसे हैं जो केवल मन के भाव से ही प्रसन्न हो जाते हैं और उनकी पूजा के लिए किसी विशेष वस्तुओं की आवश्यकता नहीं होती। किन्तु कुछ ऐसी वस्तुएं हैं जो महादेव को नहीं चढ़ाई जाती। वे जितनी जल्दी प्रसन्न होते हैं उतनी ही जल्दी अप्रसन्न भी हो जाते हैं। अतः उनकी पूजा करते समय इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि ये वस्तुएं उन्हें अर्पित ना की जाये।

शनिवार, फ़रवरी 08, 2020

रावण के अनुसार स्त्रियों के ८ अवगुण

रामचरितमानस में एक प्रसंग आता है जब रावण द्वारा सीता हरण करने के पश्चात रावण की पटरानी मंदोदरी उसे बार बार देवी सीता को श्रीराम को लौटाने का अनुरोध करती है। पहले तो रावण उसके इस हठ को हंसी में टाल देता था किन्तु मंदोदरी के बार-बार टोकने के कारण रावण क्रोधित हो जाता है और वो बताता है कि स्त्रियों के ८ दुर्गुणों के कारण ही पुरुषों का विनाश होता है।

मंगलवार, फ़रवरी 04, 2020

वर्तमान देशों के पौराणिक नाम

पौराणिक ग्रंथों में हमें कई देशों के वैदिक नाम मिलते हैं। भारत का नाम आर्यावर्त था ये तो विश्व प्रसिद्ध है किन्तु कुछ और भी देश हैं जिनका वर्णन हमारे धार्मिक ग्रंथों में आता है। कुछ ऐसे ही प्रमुख देशों का विवरण इस लेख में दिया जा रहा है। अगर आपको किसी अन्य देश का पौराणिक नाम पता हो तो हमें बताएं।
  • अखंड भारत: आर्यवर्त
    • भारत: शंकुन्तला पुत्र महाराज भरत के नाम पर
    • हिन्दू स्थान: जो बाद में बदलकर हिंदुस्तान हो गया। ये नाम हिन्दू धर्म के कारण पड़ा। पहले जो कोई भी भारत से होता था, चाहे वो हिन्दू, मुस्लिम, सिख या किसी अन्य धर्म का क्यों ना हो, उसे हिन्दू ही कहा जाता था।

गुरुवार, जनवरी 30, 2020

जब देवताओं ने देवी सरस्वती को गिरवी रखा

आप सभी को वसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनायें। वैसे तो वसंत पंचमी पर हमने पहले ही लेख डाल रखा है और माता सरस्वती, लक्ष्मी एवं गंगा विवाद पर भी एक लेख पहले ही प्रकाशित हो चुका है जिसे आप यहाँ पढ़ सकते हैं। इस लेख में हम आपको एक ऐसी कथा के बारे में बताने वाले हैं जिसके बारे में बहुत कम लोगों को मालूम है। एक ऐसी घटना जब देवताओं ने माता सरस्वती का विनिमय किया।

रविवार, जनवरी 26, 2020

परीक्षित - ४: तक्षक का दंश और मृत्यु

पिछले लेख में आपने पढ़ा कि कलियुग के प्रभाव के कारण महाराज परीक्षित से महर्षि शमीक का अपमान हो जाता है। इससे क्रोधित होकर उनके पुत्र श्रृंगी परीक्षित को श्राप देते हैं कि ठीक सातवें दिन तक्षक के दंश से परीक्षित की मृत्यु हो जाएगी। जब शमीक ऋषि को इसका पता चलता है तो वे बड़े दुखी होते हैं और परीक्षित को सन्देश भिजवाते हैं कि केवल ७ दिनों के लिए अपनी सुरक्षा का प्रबंध कर लें। 

जब परीक्षित को ये समाचार मिला तो उन्होंने अपने पुत्र जन्मेजय को राजा बना दिया और अपनी रक्षा के लिए ७ मंजिला एक ऐसा लौह भवन बनवाया जिसमे वायु को छोड़ कर कुछ और प्रवेश ही नहीं कर सकता था। राजा की रक्षा के लिए प्रत्येक मंजिल पर चारो ओर सर्पमँत्र के ज्ञाताओं को रक्षा के लिए बिठा दिया। उस भवन के सबसे ऊपरी ७वीं मंजिल पर स्वयं महाराज परीक्षित बैठे। 

गुरुवार, जनवरी 23, 2020

परीक्षित -३: कलियुग का प्रभाव और श्राप

पिछले लेख में आपने पढ़ा कि किस प्रकार महाराज परीक्षित कलियुग को धर्म रूपी बैल पर अत्याचार करते देखा। कलियुग के समझाए जाने पर कि अब उसका युग आने वाला है, महाराज परीक्षित ने कलियुग को रहने के लिए पाँच स्थान निश्चित कर दिए। वे थे - जुआ, हिंसा, मदिरा, स्त्री एवं स्वर्ण। परीक्षित ने कलियुग को रहने का स्थान तो दे दिया किन्तु वे खुद नहीं जानते थे कि उसका प्रभाव सबसे पहले उनपर ही पड़ने वाला है।

रविवार, जनवरी 19, 2020

परीक्षित - २: कलियुग से सात्क्षात्कार

पिछले लेख में आपने परीक्षित के जन्म के विषय में पढ़ा। आपने ये भी जाना कि महाभारत के ३६ वर्षों के बाद जब श्रीकृष्ण ने निर्वाण लिया, तब युधिष्ठिर ने हस्तिनापुर का राज्य परीक्षित को सौंपा और अपने भाइयों और पत्नी के साथ शरीर का त्याग कर दिया। तब परीक्षित ने युधिष्ठिर के उत्तराधिकार को कुशलतापूर्वक संभाला और हस्तिनापुर का राज्य उचित ढंग से चलाने लगे। अब आगे...

गुरुवार, जनवरी 16, 2020

परीक्षित - १: जन्म

महाभारत का युद्ध समाप्त हो चुका था और दुर्योधन की मृत्यु हो चुकी थी। कौरव सेना में केवल तीन योद्धा - अश्वत्थामा, कृपाचार्य और कृतवर्मा बचे थे। मरने से पूर्व दुर्योधन ने अश्वथामा को अपनी सेना का अंतिम प्रधान सेनापति नियुक्त किया और उससे पांडवों का वध करने को कहा। अश्वथामा ने भूलवश पांडवों के पांचों पुत्रों - प्रतिविन्ध्य, सुतसोम, श्रुतकर्मा, शतानीक और श्रुतसेन का वध कर दिया। जब पांडवों को ये पता चला तो वो अश्वथामा को ढूंढते हुए महर्षि वेदव्यास के आश्रम पर पहुंचे। 

उन्हें वहाँ आया देख कर अश्वथामा ने प्रतिशोध की भावना से उनपर ब्रह्मास्त्र के प्रहार कर दिया। उससे बचने के लिए अर्जुन को भी ब्रह्मास्त्र चलाना पड़ा। दोनों ब्रह्मास्त्रों के टकराने से जो विनाश होता उससे बचने के लिए वेदव्यास और देवर्षि ने बीच-बचाव किया जिससे अर्जुन ने अपना ब्रह्मास्त्र वापस ले लिया किन्तु अश्वथामा को ब्रम्हास्त्र को लौटना आता ही नहीं था। तब महर्षि वेदव्यास ने उसे ब्रह्मास्त्र की दिशा बदलने को कहा जिसके बाद अश्वथामा ने अपने ब्रह्मास्त्र को अभिमन्यु की पत्नी उत्तरा के गर्भ पर छोड़ दिया। इसके बारे में विस्तार से पढ़ने के लिए यहाँ जाएँ।

शनिवार, जनवरी 11, 2020

रावण का मानमर्दन ३: कर्त्यवीर्य अर्जुन - २

पिछले लेख में आपने पढ़ा कि रावण अपने दिग्विजय की यात्रा में कर्त्यवीर्य अर्जुन की माहिष्मति नगरी पहुँचता है। वहाँ रावण नर्मदा के तट पर शिवलिंग बना कर पूजा करने लगा। उसी समय सहस्त्रार्जुन ने अपने १००० हाथों से नर्मदा का प्रवाह रोक लिया जिससे रावण का बनाया शिवलिंग खंडित हो गया। इससे क्रुद्ध होकर रावण ने सहस्त्रार्जुन को युद्ध की चुनौती दी। तब उसने रावण को अपने नगर आने का आमंत्रण दिया।

बुधवार, जनवरी 08, 2020

रावण का मानमर्दन ३: कर्त्यवीर्य अर्जुन - १

पिछले लेखों में आपने इस श्रृंखला में दैत्यराज बलि और असुरराज शंभर के हाथों रावण की पराजय के विषय में पढ़ा है। कर्त्यवीर्य अर्जुन के विषय में भी आपने पिछले लेख में पढ़ा। इस लेख में रावण और हैहयवंशी महान राजा कर्त्यवीर्य अर्जुन के बीच की प्रतिद्वंदिता के बारे में आप जानेंगे। कर्त्यवीर्य जिसे सहस्तार्जुन के नाम से भी जाना जाता है, के बारे में आप विस्तार से यहाँ पढ़ सकते हैं।

रविवार, जनवरी 05, 2020

पुत्रदा एकादशी

हिन्दू धर्म में एकादशी का बड़ा महत्त्व है। प्रत्येक मास दो बार एकादशी होती है और इस प्रकार वर्ष में कुल २४ एकादशी होती है। मलमास अथवा अधिकमास की अवस्था में दो एकादशी और बढ़ जाती है और कुल २६ एकादशी होती है। पौष मास के शुक्लपक्ष की एकादशी को पुत्रदा एकादशी कहते हैं और इसका सभी एकादशियों में विशेष स्थान है। इस वर्ष ६ जनवरी को पुत्रदा एकादशी पड़ रही है जिसका मुहूर्त प्रातः ३:०७ से लेकर अगले दिन ७ जनवरी प्रातः ४:०२ तक है।

शुक्रवार, जनवरी 03, 2020

जैन धर्म के अनुसार श्री ऋषभनाथ का बल

सामान्यतः तो हम धर्मसंसार में हिन्दू धर्म से सम्बंधित जानकारियाँ ही प्रकाशित करते हैं किन्तु ऐसे कई धर्म हैं जो हिन्दू धर्म से बड़ी निकटता के साथ जुड़े हुए हैं। उनमें से तीन धर्म प्रमुख हैं - जैन, बौद्ध और सिख। वैसे तो विश्व के लगभग सारे धर्म सनातन हिन्दू धर्म से ही निकले हैं या उससे प्रभावित माने जाते हैं किन्तु भारत में इन तीन धर्मों की हिन्दू धर्म के साथ बड़ी महत्ता है। इनमे से भी जैन धर्म भी अत्यंत प्राचीन माना जाता है। कदाचित हिन्दू धर्म के बाद दूसरा सबसे प्राचीन धर्म जिसके प्रथम तीर्थंकर श्री ऋषभनाथ थे।

कुछ समय पहले हमने धर्म संसार में योद्धाओं की श्रेणियों के बारे में एक लेख प्रकाशित किया था जिसे आप यहाँ पढ़ सकते हैं। इसमें आपने अर्धरथी, रथी, अतिरथी, महारथी, अतिमहारथी एवं महामहारथी, इन ६ श्रेणियों के योद्धाओं और उनके बल के बारे में पढ़ा था। ठीक इसी प्रकार जैन धर्म में भी श्री ऋषभदेव के बल के बारे में बताया गया है।

बुधवार, जनवरी 01, 2020

नील

पिछले लेख में आपने वानर वीर नल के विषय में पढ़ा। नील नल के घनिष्ठ मित्र थे और नल के सामान उन्हें भी ये श्राप मिला था कि वो जिस वस्तु को हाथ लगाएंगे वो जल में डूबेगी नहीं। दोनों की घनिष्ठता ऐसी थी कि आज भी लोग इन दो वानरों को भाई मानते हैं, हालाँकि ऐसा नहीं था। नल विश्वकर्मा के अवतार थे और रामसेतु का निर्माण उन्होंने ही किया था। दूसरी ओर नील अग्निदेव के अंश थे और सम्पूर्ण वानर सेना के प्रधान सेनापति थे।