सोमवार, फ़रवरी 17, 2020

वस्तुएं जो भगवान शिव को वर्जित है - २

पिछले लेख में आपने उन चौदह वस्तुओं के बारे में पढ़ा जो भगवान शिव को अर्पित नहीं की जाती। जैसे कि पहले बताया गया है कि इस लेख को हम दो भागों में विभक्त करेंगे। इस भाग में हम उन वस्तुओं को समाहित करेंगे जिसे शिवलिंग पर चढाने को शास्त्रों में मना किया गया है। इसके अगले लेखों में हम उन मुख्य वस्तुओं के बारे में अलग से बताएंगे जिसे महादेव पर ना चढाने के पीछे कोई कथा है। तो आइये पहले सामान्य चीजों के बारे में जानते हैं। इस लेख में तीन ऐसी चीजें है जिसके पीछे कथा तो है किन्तु वो पहले ही धर्मसंसार पर प्रकाशित की जा चुकी है। उसके वर्णन के साथ उसका लिंक भी दिया गया है जिसे आप पढ़ सकते हैं।

बुधवार, फ़रवरी 12, 2020

वस्तुएं जो भगवान शिव को वर्जित है - १

भगवान शंकर को भोलेनाथ कहते हैं क्यूंकि वे सहज ही प्रसन्न हो जाते हैं। महादेव ही ऐसे हैं जो केवल मन के भाव से ही प्रसन्न हो जाते हैं और उनकी पूजा के लिए किसी विशेष वस्तुओं की आवश्यकता नहीं होती। किन्तु कुछ ऐसी वस्तुएं हैं जो महादेव को नहीं चढ़ाई जाती। वे जितनी जल्दी प्रसन्न होते हैं उतनी ही जल्दी अप्रसन्न भी हो जाते हैं। अतः उनकी पूजा करते समय इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि ये वस्तुएं उन्हें अर्पित ना की जाये।

शनिवार, फ़रवरी 08, 2020

रावण के अनुसार स्त्रियों के ८ अवगुण

रामचरितमानस में एक प्रसंग आता है जब रावण द्वारा सीता हरण करने के पश्चात रावण की पटरानी मंदोदरी उसे बार बार देवी सीता को श्रीराम को लौटाने का अनुरोध करती है। पहले तो रावण उसके इस हठ को हंसी में टाल देता था किन्तु मंदोदरी के बार-बार टोकने के कारण रावण क्रोधित हो जाता है और वो बताता है कि स्त्रियों के ८ दुर्गुणों के कारण ही पुरुषों का विनाश होता है।

मंगलवार, फ़रवरी 04, 2020

वर्तमान देशों के पौराणिक नाम

पौराणिक ग्रंथों में हमें कई देशों के वैदिक नाम मिलते हैं। भारत का नाम आर्यावर्त था ये तो विश्व प्रसिद्ध है किन्तु कुछ और भी देश हैं जिनका वर्णन हमारे धार्मिक ग्रंथों में आता है। कुछ ऐसे ही प्रमुख देशों का विवरण इस लेख में दिया जा रहा है। अगर आपको किसी अन्य देश का पौराणिक नाम पता हो तो हमें बताएं।
  • अखंड भारत: आर्यवर्त
    • भारत: शंकुन्तला पुत्र महाराज भरत के नाम पर
    • हिन्दू स्थान: जो बाद में बदलकर हिंदुस्तान हो गया। ये नाम हिन्दू धर्म के कारण पड़ा। पहले जो कोई भी भारत से होता था, चाहे वो हिन्दू, मुस्लिम, सिख या किसी अन्य धर्म का क्यों ना हो, उसे हिन्दू ही कहा जाता था।