15 अगस्त 2019

रक्षा बंधन

आप सभी को रक्षाबंधन एवं स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें। रक्षाबंधन एक अति प्राचीन पर्व है जो हर वर्ष श्रावण मास की पूर्णिमा तिथि को मनाया जाता है। इस पर्व में बहनें अपने भाइयों के हाथ में रेशम के धागों का एक सूत्र बाँधती है और उसकी रक्षा की कामना करती है। बदले में भाई भी सदैव अपनी बहन की रक्षा का वचन देता है। ये साधारण सा बंधन भाई एवं बहन की रक्षा की कड़ी है और इसी कारण इसे रक्षा बंधन के नाम से जाना जाता है। सांस्कृतिक रूप से तो इसका बहुत महत्त्व है पर आज हम इसके धार्मिक महत्त्व को जानेंगे।
  • आज भले ही रक्षाबंधन भाई और बहन के पवित्र सम्बन्ध का द्योतक है किन्तु आपको ये जानकर हैरानी होगी कि सर्वप्रथम रक्षाबंधन का प्रसंग पति और पत्नी के सन्दर्भ में आता है। जब प्रथम देवासुर संग्राम में दैत्य देवों पर भारी पड़ने लगे और देवों की पराजय सामने थी तब देवराज इंद्र अपने गुरु बृहस्पति के पास पहुँचे और उन्हें अपनी व्यथा बताई। उनकी पत्नी इन्द्राणी भी वही बैठी थी। उन्होंने अपने वस्त्र से रेशम का एक धागा अलग किया और उसे अभिमंत्रित कर इंद्र की रक्षा हेतु उनकी कलाई पर बांध दिया। उस दिन श्रावण मास की पूर्णिमा थी। उस रक्षा कवच के कारण इंद्र उस संग्राम में विजय हुए। तब से ही रक्षाबंधन के इस पवित्र पर्व का आरम्भ हुआ।
  • प्राचीन काल में जब हयग्रीव नामक राक्षस ने वेदों का अपहरण कर लिया तब आज ही के दिन भगवान विष्णु ने हयग्रीव अवतार लेकर उसका वध किया और वेदों की रक्षा की। तब से आज के दिन को रक्षा दिवस के नाम से जाना जाता है।
  • सूर्यदेव की पुत्री यमुना द्वारा भी यमराज को राखी बांधने का प्रसंग हमें पुराणों में मिलता है। भाईदूज की शुरुआत भी यही से हुई।
  • भगवान विष्णु ने वामन अवतार लेकर दैत्यराज बलि का मान मर्दन किया और उन्हें पाताल का राज्य दे दिया। उनकी आज्ञा का पालन करते हुए दैत्यराज बलि पाताल तो चले गए किन्तु वहाँ जाकर उन्होंने नारायण की घोर तपस्या की। जब श्रीहरि प्रसन्न हुए तब बलि ने वरदान माँगा कि वे वही पाताल में रहें। तब भगवान विष्णु वहीँ पाताललोक में स्थित हो गए। जब माँ लक्ष्मी को इस बात की जानकारी हुई तब वे घबरा कर पाताललोक पहुँची और दैत्यराज बलि की कलाई में रेशम की डोर बांध कर अपनी रक्षा की गुहार लगाई। इससे बलि ने देवी लक्ष्मी को अपनी भगिनी मानते हुए उन्हें उनकी रक्षा का वचन दिया। तब देवी लक्ष्मी ने दैत्यराज बलि से अपने पति को वापस मांग लिया। तब से भाइयों द्वारा बहनों को वचन के साथ-साथ कुछ उपहार देने की प्रथा भी चली और दैत्यराज बलि के नाम पर इस पर्व का एक नाम "बलेव" भी पड़ा। यही कारण है कि रक्षासूत्र बांधते हुए हम इस मन्त्र का उच्चारण करते हैं: येन बद्धो बलिराजा दानवेन्द्रो महाबल:। तेन त्वामपि बध्नामि रक्षे मा चल मा चल॥ - अर्थात: जिस सूत्र से महान दानवेन्द्र बलि को बाँधा गया था, उसी रक्षासूत्र से मैं तुम्हे बांधता हूँ। अतः हे रक्षे (राखी) तुम अपने संकल्प से कभी विचलित ना होना। तभी से आज तक ये मन्त्र किसी भी प्रकार के सूत्र को बाँधते समय बोला जाता है।
  • एक बार श्रीगणेश के पुत्रों शुभ एवं लाभ ने अपने पिता को कहा कि उनकी कोई बहन नही है। उन्होंने अपने पिता से उन्हें एक बहन देने का अनुरोध किया। तब श्रीगणेश ने अपनी पत्नी रिद्धि एवं सिद्धि की सतीत्व के ताप से "संतोषी माता" को प्रकट किया। तब संतोषी माँ द्वारा शुभ एवं लाभ को राखी बांधने का प्रसंग आता है।
  • रक्षाबंधन का एक प्रसंग महाभारत में तब आता है जब राजसु यज्ञ में शिशुपाल का वध करने के पश्चात सुदर्शन की धार से श्रीकृष्ण का रक्त बह निकला। तब द्रौपदी ने अपनी रेशमी साड़ी को चीर कर श्रीकृष्ण के घाव पर बाँधा। तब श्रीकृष्ण ने सदैव द्रौपदी की रक्षा का वचन दिया और चीरहरण के समय अपने इस वचन का पालन भी किया। 
  • महाभारत में ही जब युधिष्ठिर जब श्रीकृष्ण से संकटों से बचने का उपाय पूछते हैं तो श्रीकृष्ण उन्हें राखी का पर्व मानाने की सलाह देते हैं। यशोदा की पुत्री एकानंगा एवं सुभद्रा द्वारा श्रीकृष्ण एवं बलराम को रक्षासूत्र बाँधने का प्रसंग भी आता है। इसके अतिरिक्त एक प्रसंग आता है जब युद्ध से पहले कुंती अभिमन्यु की कलाई पर रक्षासूत्र बांधती है।
  • अमरनाथ की महान यात्रा भी गुरु पूर्णिमा से आरम्भ होकर आज के ही दिन समाप्त होती है। यही नहीं, समय के साथ बढ़ता महादेव का बर्फानी शिवलिंग भी आज के ही दिन अपनी पूर्णता को प्राप्त करता है।
  • कम्ब एवं तमिल भाषा में रचित रामायण में भी ऋष्यश्रृंग की पत्नी और श्रीराम की बड़ी बहन शांता द्वारा चारों भाइयों को रक्षासूत्र बांधने का वर्णन भी है।
  • प्राचीन काल में जब विद्यार्थी अपनी पढाई पूरी कर गुरुकुल से निकलता था तब उसके गुरु उसकी कलाई पर रक्षासूत्र बांधते थे ताकि वो उनके द्वारा प्राप्त की गयी विद्या का सदुपयोग कर सके।
  • जैन धर्म में भी रक्षाबंधन का वर्णन है। कहा जाता है कि इसी दिन विष्णुकुमार नामक मुनिराज ने ७०० जैन मुनियों की रक्षा की थी।
इसके अतिरक्त राखी का ऐतिहासिक महत्त्व भी है। जब राजपूत युद्ध को जाते थे तब स्त्रियां उन्हें कुमकुम लगाने के साथ उनकी कलाई पर रेशमी रक्षासूत्र भी बांधती थी। मेवाड़ की रानी कर्णावती ने अपने राज्य की रक्षा के लिए हुमांयू को राखी भेजी थी। उनकी राखी पाकर हुमांयू मुसलमान होते हुए भी उनकी रक्षा हेतु सेना सहित मेवाड़ आये और बहादुरशाह की सेना को खदेड़ दिया। एक ऐसा वर्णन है कि सिकंदर की पत्नी ने पोरस को अपनी पति की रक्षा के लिए राखी बंधी थी। यही कारण था कि पोरस सिकंदर पर प्रहार नहीं कर सका और पराजित हुआ। बाद में उसी रक्षासूत्र के कारण सिकंदर ने पोरस को सम्मानसहित उसका राज्य लौटा दिया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें