22 मार्च 2019

श्रीकृष्ण और ८ अंक

जिस प्रकार महाभारत में १८ अंक की विशेष महत्ता है उसी प्रकार श्रीकृष्ण के जीवन में भी ८ अंक का बहुत महत्त्व है। उनके जीवन के कई घटनाक्रम है जो ८ अंक से जुडी हुई हैं। आइये उनमे से कुछ जानते हैं:
  • श्रीकृष्ण भगवान विष्णु के वें अवतार थे। 
  • उनका जन्म वें मनु वैवस्वत के कार्यकाल में हुआ। 
  • उनका जन्म रात्रि के वें प्रहर में हुआ। 
  • जब उनका जन्म हुआ तो उस लग्न पर ग्रहों (शनि को छोड़ कर अन्य नवग्रह) की शुभ दृष्टि थी। 
  • उनका जन्म रोहिणी नक्षत्र के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को हुआ था। 
  • वे अपने माता पिता की वीं संतान थे। उनके अन्य भाइयों के नाम थे - कीर्तिमान, सुषेण, भद्रसेन, ऋजु, सम्मर्दन, भद्र एवं संकर्षण (बलराम)। 
  • उनकी मुख्य पत्नियाँ थी - रुक्मिणी, सत्यभामा, जांबवंती, कालिंदी, सत्या, मित्रविन्दा, लक्ष्मणा एवं भद्रा। 
  • उनके प्रमुख पुत्र थे - प्रद्युम्न, भानु, साम्ब, वीर, श्रुत, प्रघोष, वृक एवं संग्रामजित। 
  • उनके प्रमुख नाम थे - कृष्ण, गोपाल, गोविन्द, वासुदेव, मोहन, गिरधारी, श्याम एवं हरि। 
  • उनके जीवन में नगरों का विशेष महत्त्व था - मथुरा, गोकुल, गोवर्धन, वृन्दावन, अवंतिका, हस्तिनापुर, द्वारिका एवं प्रभास क्षेत्र। 
  • उनके प्रमुख मित्र थे - उद्धव, सात्यिकी, कृतवर्मा, सुदामा, अर्जुन, दारुक, घोर अंगिरस एवं श्रीदामा। 
  • उनके प्रमुख शत्रु थे - कंस, जरासंध, पौण्ड्रक, शिशुपाल, रुक्मी, दन्तवक्र, शाल्व एवं दुर्योधन।
  • श्रीकृष्ण ने अर्जुन को गीता के वें अध्याय - 'अक्षर ब्रह्मयोग' का विशेष महत्त्व बताया।
  • महाभारत के युद्ध में कृष्ण ने मुख्यतः बार अर्जुन के प्राणों की रक्षा की थी।
  • ऐसा वर्णन है कि राधा सहित उनकी प्रमुख गोपियाँ थी।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें