8 मार्च 2018

पुराण में वर्णित विभिन्न विष

वैसे तो विष या जहर एक आम शब्द है किन्तु हिन्दू पुराणों में कई प्रकार के विष का वर्णन है। आम तौर पर हमने कदाचित केवल कालकूट एवं हलाहल के बारे में सुना है। कई लोगों को ये भी लगता है कि कालकूट और हलाहल एक ही हैं लेकिन ये भी सत्य नहीं है। पुराणों में ९ प्रकार के विष का वर्णन किया गया है जिसकी तीव्रता अलग अलग होती है। कालकूट ब्रम्हांड का दूसरा सबसे घातक और हलाहल ब्रम्हांड का सर्वाधिक घातक विष है। समुन्द्र मंथन के समय सर्व प्रथम सर्वाधिक जहरीला हलाहल ही निकला था जिसे भगवान शिव ने अपने कंठ में धारण कर लिया था। यहाँ पर उन विषों को उनकी तीव्रता के आधार पर श्रेणीबद्ध किया गया है। ये विष हैं:
  1. वत्सनाम: ये विष वैसे तो प्रारंभिक तीक्ष्णता का है किन्तु फिर भी ये इतना विषैला है कि इसे केवल सूंघने मात्र से प्राणी मृत्यु को प्राप्त हो जाते हैं। हिमालय की तराइयों में आज भी इसी नाम की एक जहरली वनस्पति होती है जिसे मीठा विष भी कहते हैं। कई जगह इसे वत्सनाभ भी कहते हैं। 
  2. हरिद्रिक 
  3. सत्तुक
  4. प्रदीपन
  5. सौराष्ट्रिक 
  6. श्रृंगक
  7. ब्रम्हपुत्र 
  8. कालकूट: ये एक प्रसिद्द विष है जिसे अधिक तीव्र केवल हलाहल ही होता है। ये इतना घातक होता है कि आम प्राणी तो क्या धातु और पत्थरों को भी क्षण भर में गला देता है। ये विष आठ प्रमुख नागों जिनमे तक्षक और वासुकि भी हैं, उनके विष से भी अधिक तीक्ष्ण होता है। केवल शेषनाग का विष ही इसके समकक्ष होता है।
  9. हलाहल: समुद्र मंथन के समय सबसे पहले हलाहल बाहर निकला। इस विष की तुलना रूद्र के तीसरे नेत्र की ज्वाला के १०००वें भाग से की गयी है। ये इतना शक्तिशाली था कि इसके केवल स्पर्श मात्र से कोई भी प्राणी भस्म हो जाता था। यही नहीं इसकी शक्ति के सामने देवताओं की अमरता भी नहीं ठहर सकती। अर्थात हलाहल की तीव्रता स्वयं अमृत की शक्ति को भी क्षीण कर सकने में सक्षम थी। जब हलाहल समुद्र के गर्भ से प्रकट हुआ तो उसके दर्शन मात्र से देवता और दानव अचेत हो गए। उसका प्रभाव ऐसा था कि संसार के समस्त प्राणी एक एक कर काल को प्राप्त होने लगे। विषैले से विषैले विषधर और नाग उसके ताप को सह ना सके और मृत्यु को प्राप्त हुए। औरों की तो क्या बात है, स्वयं मृत्यु के देवता यमराज एवं मथनी का काम कर रहे नागराज वासुकि भी उसकी तीक्ष्णता से अचेत हो गए। अपनी सृष्टि को इस प्रकार नष्ट होते देख ब्रम्हा जी व्यथित हो गए। उन्होंने भगवान विष्णु से उस विष के निदान का उपाय पूछा किन्तु भगवान विष्णु स्वयं कच्छप रूप में मंदराचल को अपने ऊपर संभाले हुए थे इसी कारण उन्होंने असमर्थता प्रकट की और कहा कि इस हलाहल को धारण करने की शक्ति केवल महादेव में ही है। ये सुनकर ब्रम्हदेव ने महादेव का आह्वान किया। सृष्टि का इस प्रकार विनाश होते देख, महादेव ने सारा हलाहल अपनी अंजुली में भर कर पी लिया किन्तु देवी पार्वती के अनुरोध पर उन्होंने उसे अपने कंठ में ही रोक लिया। उस भीषण विष के प्रभाव से महादेव का कंठ नीला पड़ गया और वे नीलकंठ कहलाये।