30 जनवरी 2018

जब कृष्ण ने अर्जुन को बताया क्यों है कर्ण मानदानी - पहली कथा

एक बार अर्जुन और कृष्ण बैठे वार्तालाप कर रहे थे तथा कृष्ण अर्जुन को दानवराज बलि की दानवीरता की कथा सुना रहे थे कि कैसे बलि ने भगवान वामन को तीन पग भूमि दान की थी। तभी अर्जुन ने पूछा कि क्या उनकी तरह दानवीर कोई और हुआ? इस पर कृष्ण ने अर्जुन को बताया कि आज पूरे विश्व में कर्ण सबसे महान दानी हैं। उन्होंने आज तक किसी याचक को खाली हाथ नहीं लौटाया। कृष्ण के मुख से कर्ण की इस प्रकार बड़ाई सुनने पर अर्जुन को बड़ी ईर्ष्या हुई। उन्होंने कृष्ण से कहा कि हे कृष्ण, हमारे बड़े भाई युधिष्ठिर ने भी आज तक किसी याचक को खाली हाथ नहीं लौटाया। प्रतिदिन सम्राट युधिष्ठिर भी प्रत्येक याचक को उसकी आवश्यकता से अधिक अन्न एवं धन से परिपूर्ण करते हैं। यही नहीं, उनके पास इतना धन है कि वे जीवन भर भी दान देते रहें तो कभी खर्च नहीं हो सकता। इन्द्रप्रस्थ के सम्राट के आगे तो कर्ण की संपत्ति कुछ भी नहीं है। फिर जब दानवीरता की बात आती है तो आप केवल कर्ण का नाम ही क्यों लेते हैं?

29 जनवरी 2018

दशावतार और डार्विन के सिद्धांत में समानता

हम सभी भगवान् विष्णु के दस अवतारों के बारे में जानते हैं (आप उसके बारे में विस्तार से यहाँ पढ़ सकते हैं)। लेकिन क्या आप जानते हैं कि भगवान विष्णु के ये दस अवतार वैज्ञानिक दृष्टि से भी आश्चर्यजनक रूप से भी प्रकृति के विकास-क्रम से बिलकुल मेल खाती है। डार्विन ने सन १८६० में पृथ्वी पर विकास-क्रम का सिद्धांत दिया था जिसमे उन्होंने ये बताया था कि पृथ्वी पर विभ्भिन्न प्राणी किस क्रम में आये थे। आज इतने वर्षों बाद भी डार्विन का सिद्धांत प्राणी विकास-क्रम में मील का पत्थर माना जाता है।

22 जनवरी 2018

वसन्त पञ्चमी का माहात्म्य

सर्वप्रथम आप सभी को वसन्त पञ्चमी की हार्दिक शुभकामनाएं। वसन्त पञ्चमी भारत का एक प्रमुख त्यौहार है जो हर वर्ष माघ महीने की पाँचवी तिथि को मनाया जाता है। इसी कारण इस त्यौहार को वसन्त पञ्चमी के नाम से जाना जाता है। ये तिथि आम तौर पर जनवरी या फरवरी में पड़ती है। इसी तिथि से शिशिर ऋतु का प्रस्थान और वसन्त ऋतु का आगमन माना जाता है जो भारत में सर्वाधिक प्रिय ऋतु मानी जाती है। ये त्यौहार मुख्य रूप से महादेवी सरस्वती को समर्पित है तथा कहीं-कहीं इसे प्रेम स्वरुप कामदेव और रति को भी समर्पित किया जाता है।

19 जनवरी 2018

पौराणिक काल में धन/संख्या की मापन विधि

महाभारत में एक प्रसंग आता है जब जुए में युधिष्ठिर हार रहे होते हैं तब दुर्योधन उनसे व्यंग करते हुए पूछता है कि क्या अब आपके पास धन ख़त्म हो गया? तब युधिष्ठिर क्रोधित होते हुए अपने पास संचित धन की व्याख्या करते हैं। जहाँ दुर्योधन ने अपने पास संचित धन की संख्या "पद्म" बताई, वहीं युधिष्ठिर कहते हैं कि उनके पास "परार्ध" से भी अधिक धन है। आज के युग में हम धन को मिलियन, बिलियन, ट्रिलियन आदि में मापते हैं किन्तु प्राचीन काल में धन के मापन की विधि अलग थी। इनमे से कुछ जैसे इकाई, दहाई, सैकड़ा आदि तो हमने अपने विद्यालय के दिनों में पढ़ा है किन्तु अन्य कई परिमाण है जिसके बारे में हम नहीं जानते। तो आइये, इस लेख में हम उन परिमाणों के बारे में जानते हैं।

14 जनवरी 2018

मकर संक्रांति की कथा एवं उसका महत्त्व

सर्व-प्रथम आप सभी लोगों को मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनायें। आज पूरा देश और कई अन्य जगह विदेशों में भी मकर संक्रांति का पर्व मनाया जा रहा है। तो आइये आज हम मकर संक्रांति का महत्व जानते हैं और समझते हैं कि ये क्यों मनाया जाता है। मकर संक्रांति से जुडी कुछ पौराणिक कथाएं भी हैं और कई ऐसे पौराणिक प्रसंग हैं जो आज के ही दिन घटित हुए थे।

12 जनवरी 2018

जब दुर्वासा ऋषि के श्राप से तीनों लोक श्रीहीन हो गए

महर्षि दुर्वासा महामुनि अत्रि एवं सती अनुसूया के कनिष्ठ पुत्र थे जो भगवान रूद्र के अंश से जन्मे थे। वे चन्द्र एवं दत्तात्रेय के भाई थे और पूरे विश्व में अपने क्रोध के कारण प्रसिद्ध थे। श्राप तो जैसे इनके जिह्वा के नोक पर रखा रहता था। पृथ्वी पर ना जाने कितने मनुष्य उनके क्रोध और श्राप का भाजन बनें किन्तु इन्होने स्वयं देवराज इंद्र को भी नहीं छोड़ा।