सोमवार, 18 मई 2015

श्री मद भगवद गीता के बारे में कुछ तत्थ्य

  • किसने किसको सुनाई: श्रीकृष्ण ने अर्जुन को
  • कब सुनाई: आज से लगभग ७००० साल पहले
  • किस दिन सुनाई: रविवार के दिन
  • कौन सी तिथि को: एकादशी 
  • कहाँ सुनाई: कुरुक्षेत्र की रणभूमि में
  • कितनी देर में सुनाई: लगभग ४५ मिनट
  • क्यों सुनाई: कर्त्तव्य से भटके अर्जुन को कर्त्तव्य पथ पर लेन के लिए एवं आने वाली पीढ़ी को धर्म ज्ञान सिखाने के लिए
  • अर्जुन को गीता पर पूर्ण विश्वास कब आया: श्रीकृष्ण के विराट स्वरुप के दर्शन के बाद
  • अर्जुन के आलावा और किसने श्रीकृष्ण के विराट रूप के दर्शन किये: संजय ने
  • अर्जुन के आलावा इसे और किसने सुना: ध्रितराष्ट्र एवं संजय ने
  • अर्जुन से पहले इसका ज्ञान किसे मिला था: सूर्यदेव को
  • गीता की गिनती किन धर्मग्रंथों में की जाती है: उपनिषदों में
  • गीता किस महाग्रंथ का भाग है: महाभारत के शांति पर्व का
  • गीता का दूसरा नाम: गीतोपनिषद
  • गीता का सार क्या है: परमात्मा की शरण लेना
  • कुल कितने श्लोक हैं: ७००
  • कुल कितने अध्याय है: १८
    1. विषाद योग: ४६ श्लोक
    2. सांख्य योग: ७२ श्लोक
    3. कर्म योग: ४३ श्लोक
    4. ज्ञान कर्म संन्यास योग: ४२ श्लोक 
    5. कर्म संन्यास योग: २९ श्लोक 
    6. ध्यान योग अथवा आत्मसंयम योग: ४७ श्लोक
    7. ज्ञान विज्ञान योग: ३० श्लोक
    8. अक्षर ब्रम्ह योग: २८ श्लोक
    9. राजविद्या राजगुह्य योग: ३४ श्लोक
    10. विभूति विस्तार योग: ४२ श्लोक
    11. विश्वरूप दर्शन योग: ५५ श्लोक
    12. भक्ति योग: २० श्लोक
    13. क्षेत्र क्षेत्रजन विभाग योग: ३५ श्लोक
    14. गुणत्रय विभाग योग: २७ श्लोक
    15. पुरुषोत्तम योग: २० श्लोक
    16. दैवासुर सम्पद विभाग योग: २४ श्लोक
    17. श्रध्दात्रय विभाग योग: २८ श्लोक
    18. मोक्ष संन्यास योग: ७८ श्लोक 
  • गीता में किसने कितने श्लोक कहे हैं:
    • श्रीकृष्ण ने: ५७४
    • अर्जुन ने: ८५
    • ध्रितराष्ट्र ने:
    • संजय ने: ४०

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें