1 अक्तूबर 2012

शरभ अवतार द्वारा भगवान नरसिंह का मान मर्दन

भगवान विष्णु के वराह अवतार द्वारा अपने भाई हिरण्याक्ष के वध के पश्चात ब्रह्मा से वरदान पा उसके बड़े भाई हिरण्यकशिपु के अत्याचार हद से अधिक बढ़ गए। सारी सृष्टि त्राहि-त्राहि करने लगी। जहाँ एक ओर हिरण्यकशिपु संसार से धर्म का नाश करने पर तुला हुआ था, वही उसका अपना पुत्र प्रह्लाद भगवान विष्णु की भक्ति में लीन था। हिरण्यकश्यप जब किसी भी तरह प्रह्लाद को नहीं समझा सका तो उसने उसे कई बार मारने का प्रयत्त्न किया किन्तु प्रह्लाद हर बार भगवान विष्णु की कृपा से बच गया। यहाँ तक कि इस प्रयास में उसकी बहन होलिका भी मृत्यु को प्राप्त हो गयी। अंत में जब वो स्वयं प्रह्लाद को मारने को तत्पर हुआ तो अपने भक्त की रक्षा के लिए भगवान विष्णु स्वयं नृसिंह अवतार में प्रकट हुए।

भगवान नृसिंह में वो सभी लक्षण थे जो हिरण्यकशिपु के मृत्यु के वरदान को संतुष्ट करते थे। नृसिंहदेव के द्वारा उस दैत्य का संहार हुआ किन्तु एक और समस्या खड़ी हो गयी। भगवान नृसिंह इतने क्रोध में थे कि लगता था जैसे वो प्रत्येक प्राणी का संहार कर देंगे। यहाँ तक कि स्वयं प्रह्लाद भी उनके क्रोध को शांत करने में विफल रहा। सभी देवता भयभीत हो भगवान ब्रह्मा की शरण में गए। परमपिता ब्रह्मा उन्हें लेकर भगवान विष्णु के पास गए और उनसे प्रार्थना की कि वे अपने अवतार के क्रोध शांत कर लें किन्तु भगवान विष्णु ने अपने ही अवतार के विरुद्ध ऐसा करने में अपनी असमर्थता जतलाई। भगवान विष्णु ने सबको भगवान शंकर के पास चलने की सलाह दी। उन्होंने कहा चूँकि भगवान शंकर उनके आराध्य हैं इसलिए केवल वही नृसिंह के क्रोध को शांत कर सकते हैं। और कोई उपाय न देख कर सभी भगवान शंकर के पास पहुंचे।

देवताओं के साथ स्वयं परमपिता ब्रह्मा और भगवान विष्णु के आग्रह पर भगवान शिव ने पहले वीरभद्र को नृसिंह का क्रोध शांत करने को भेजा। वीरभद्र भयानक गर्जना करता हुआ नृसिंहदेव के समक्ष पहुँचा और पहले उसने उन्हें समझाने का प्रयत्न किया। किन्तु जब नृसिंह का क्रोध शांत नहीं हुआ तो वीरभद्र ने उन्हें शांत करने के लिए बल का प्रयोग किया। इससे दोनों में भयानक युद्ध छिड़ गया किन्तु उसका कोई परिणाम नहीं निकला। अंत में वीरभद्र महारुद्र के पास वापस लौटे और उन्हें ही हस्तक्षेप करने की प्रार्थना की। वीरभद्र को भी असफल होता देख अंत में महादेव स्वयं नृसिंह के पास पहुँचे।

किन्तु उस समय तक भगवान नृसिंह का क्रोध सारी सीमाओं को पार कर गया था। साक्षात भगवान शंकर को सामने देख कर भी उनका क्रोध शांत नहीं हुआ बल्कि वे स्वयं भगवान शंकर पर आक्रमण करने दौड़े। महादेव ने नृसिंह को समझने का प्रयास किया कि उनके अवतार का आशय पूर्ण हो गया है और इसीलिए उन्हें अपना क्रोध त्याग देना चाहिए किन्तु वे उनका क्रोध शांत करने में असफल रहे। उधर नृसिंहदेव की क्रोध की ऊष्मा बढ़ती ही जा रही थी। ऐसा लग रहा था कि उनके क्रोध की अग्नि में संसार भस्म हो जाएगा। अतः कोई और चारा ना देख कर भगवान शिव ने भी एक महाभयंकर विकराल शरभ का रूप धारण किया। उनके आठ हाथ थे और वे सिंह, पक्षी एवं गज का मिला जुला स्वरुप थे।

अब तो नारायण के उस अतिभयंकर नृसिंह स्वरुप के सामने महाकाल के तेजस्वी और विकराल शरभ को देख कर स्वयं ब्रह्मा भी चिंतित हो गए। उन्हें लगा कि इन दो महान अवतारों के टकराव से उनकी सृष्टि का ही नाश हो जाएगा। उधर दोनों महाशक्तियों में भयानक युद्ध प्रारम्भ हो गया जो १८ दिनों तक चला। दोनों महाभयंकर थे, दोनों महाशक्तिशाली थे किन्तु जहाँ एक और भगवान नृसिंह अपनी चेतना की सीमा को पार कर चुके थे, वही भगवान शरभ अभी भी अपनी पूर्ण चेतना में थे। जब उन्होंने देखा कि दोनों के युद्ध से सृष्टि का नाश हो रहा है तो विवश होकर उन्होंने भगवान नृसिंह को को अपनी पूंछ में लपेट लिया और खींच कर पाताल लोक में ले गए। भगवान नृसिंह ने उनकी पकड़ से छूटने का बहुत प्रयास किया किन्तु सफल नहीं हो पाए।

बहुत काल तक शरभ ने नृसिंह को उसी प्रकार अपनी पूँछ में जकड कर रखा। अपनी सारी शक्तियों और प्रयासों के बाद भी भगवान नृसिंह उनकी पकड़ से छूटने में सफल नहीं हो पाए तो अंततः शक्तिहीन होकर उन्होंने शरभ रूप में भगवान शंकर को पहचाना। तब कही जाकर उनका क्रोध शांत हुआ। तब भगवान ब्रह्मा और नारायण के आग्रह पर शरभ रूपी भगवान शंकर ने उन्हें मुक्त कर दिया। कहा जाता है कि अपनी लीला समाप्त करने से पहले नृसिंहदेव ने भगवान शिव से अपने चर्म को आसन के रूप में प्रयोग करने की प्रार्थना की और भगवान शिव जिस सिंह आसन पर विराजमान होते हैं वो भगवान नृसिंह का ही चर्म है। इस प्रकार प्रह्लाद के साथ-साथ समस्त देवताओं को भी एक साथ दो महान अवतारों के दर्शनों का सौभाग्य प्राप्त हुआ। 

6 टिप्‍पणियां:

  1. निलाभ जी मुझे आपके लेख बहुत अच्छे लगे हैं. क्या आप मुझे इन्हें अपने ब्लॉग पर डालने की अनुमति दोंगे? मेरा ब्लॉग हैं.
    हिंदू-हिंदी-हिन्दुस्थान: http://praveenguptahindu.blogspot.in
    मेरा ई मेल पता हैं.computech_mzn@rediffmail.com

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रवीण जी,

      सबसे पहले तो देर से उत्तर देने के लिए क्षमाप्रार्थी हूँ. दरअसल इनदिनों इंटरनेट पर आना थोड़ा कम हो गया है. आपका ब्लॉग देखा, बेहतरीन है. बिलकुल आप मेरे ब्लॉग के लेख अपने ब्लॉग पर प्रकाशित कर सकते है. बस कुछ चीजों का ध्यान रखें:

      अपने लेख के अंत में धर्मसंसार तथा उसके लेख का लिंक (हाइपरलिंक) अवश्य प्रकाशित करें.
      जब भी लेख प्रकशित करें तो कृपया मुझे पर सूचित अवश्य कर दे.

      किसी और सहायता के लिए निः संकोच संपर्क करें।

      नीलाभ

      हटाएं
  2. ऋषभ न होकर शरभ अवतार है। कृपया शुद्ध करें।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दीनदयाल जी, आपके मार्गदर्शन के लिए आभार. लेखन में त्रुटि के लिए मैं क्षमा चाहता हूँ. लेख में सही बदलाव कर दिए गए हैं.

      हटाएं
  3. जानकारी देने के लिए साधुवाद। कृपया बताये की इस प्रसंग का वर्णन किस पुराण में कहा हुवा है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. अखिलेश जी, इसका वर्णन शिव पुराण, लिंग पुराण के अतिरिक्त कल्कि उपपुराण में भी आता है.

      हटाएं