रविवार, 22 अप्रैल 2012

जब दो ब्रम्हास्त्रों का सामना हुआ

महाभारत का युद्ध समाप्त हो चुका था. कौरवों की ओर से केवल तीन महारथी हीं जीवित बचे थे - अश्वत्थामा, कृपाचार्य और कृतवर्मा. दुर्योधन की मृत्यु से दुखी अश्वत्थामा ने पांडवों को छल से मारने की प्रतिज्ञा की. उसने दुर्योधन को मरते हुए वचन दिया था कि जैसे भी हो वो पांचों पांडवों को अवश्य मार डालेगा. कृपाचार्य ने उसे समझाने की बहुत कोशिश की पट अंततः उन्होंने भी उसका साथ देने की स्वीकृति भर दी. युद्ध के समाप्त होने के पश्चात् कृष्ण पाँचों पांडवों को गंगा तट पर जागरण के लिए ले गए थे और उनके शिविर में उनके पाँचों पुत्र प्रतिविन्ध्य, सुतसोम, श्रुत्कार्मन, शतानीक एवं श्रुतसेन सोए हुए थे. इसकी जानकारी अश्वत्थामा को नहीं थी. उसे लगा कि पांडव हीं वहां सोए हुए हैं. उन्होंने इस पाँचों को सोते हुए हीं पांडव समझ कर मार डाला और प्रसन्नतापूर्वक लौट गए. उनके साथ साथ उन्होंने वहां विश्राम कर रहे सरे योद्धाओं को मौत के घाट उतार दिया जिसमे ध्रिस्त्धुम्न और शिखंडी भी थे.

जब पांडव और द्रौपदी वापस आए तो उपने पुत्रों को मारा हुआ देख द्रौपदी विलाप करने लगी. उसके क्रोध का ठिकाना नहीं रहा. उसने पांडवों से कहा कि जब तक वो अश्वत्थामा का मारा हुआ मुख नहीं देख लेती वो अन्न जल ग्रहण नहीं करेगी. अश्वत्थामा को पकड़ने के लिए पांडव चल दिए जो भागता हुआ महर्षि व्यास के आश्रम में पहुँच चुका था. वहां पहुंचकर भीम ने उससे युद्ध कर उसे परस्त किया. अपने पिता आचार्य द्रोण के वरदान के कारण अश्वत्थामा अमर था. उसे ब्रम्हास्त्र का ज्ञान भी था. उसने पांडवों को समाप्त करने के लिए उनपर ब्रम्हास्त्र चला दिया. पांडवों में ब्रम्हास्त्र का ज्ञान केवल अर्जुन को था. जब कृष्ण ने देखा कि ये ब्रम्हास्त्र पांडवों को मार कर हीं रहेगा तो उन्होंने विवश होकर अर्जुन से भी ब्रम्हास्त्र चलने को कहा क्योंकि एक ब्रम्हास्त्र का सामना केवल दूसरा ब्रम्हास्त्र हीं कर सकता था लेकिन इससे पूरी पृथ्वी का विनाश हो जाता. जब महर्षि व्यास ने देखा कि दोनों ब्रम्हास्त्र टकराने हीं वाले हैं तो उन्होंने देवर्षि नारद की सहायता से दोनों ब्रम्हास्त्रों को रोक दिया. उन्होंने अर्जुन और अश्वत्थामा को समझाया कि इससे पूरी पृथ्वी का विनाश हो जाएगा और उनदोनो को अपना ब्रम्हास्त्र वापस लेने को कहा. उनकी आज्ञा मान कर अर्जुन ने तो अपना ब्रम्हास्त्र वापस ले लिए किन्तु अश्वत्थामा ब्रम्हास्त्र को वापस लेने कि कला नहीं जानता था. महर्षि व्यास ने कहा कि अगर वो अपना ब्रम्हास्त्र वापस नहीं ले सकता तो उसकी दिशा बदल कर उसके प्रभाव को सीमित कर दे. बदले की भावना में जलते अश्वत्थामा ने अपने ब्रम्हास्त्र की दिशा बदल कर उसे अभिमन्यु की पत्नी उत्तरा के गर्भ पर गिरा दिया जिससे उसके गर्भ से एक मृत शिशु का जन्म हुआ.

उसके इस कृत्य से पांडव बड़े क्रोधित हुए. वो ब्राम्हण था और अमर भी इस लिए वो उसका वध तो नहीं कर सकते थे इसलिए उन्होंने उसके मस्तक की मणि लेकर उसे आजीवन भटकने के लिए छोड़ दिया. बाद में कृष्ण की कृपा से उस शिशु को नया जीवनदान मिला जिससे उसका नाम परीक्षित पड़ा.

7 टिप्‍पणियां:

  1. उस सिष्य का नाम जन्मेजय या परीक्षित क्या राखा था कृपया प्रष्ट करें क्युंकि इधर जन्मेजय हें फिर उधर महाभारत के पात्र अग्ला पोष्ट जहाँ परिक्षित हें

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. uska name parikshit tha.........parikshit ke ptra ka name janmejay tha

      हटाएं
    2. गुरुंग जी,

      चूँकि अभिमन्यु के पुत्र को श्रीकृष्ण के द्वारा दुबारा जीवनदान मिला था इसीलिए उसका नाम परीक्षित पड़ा। उसके पुत्र का नाम जन्मेजय था जिसने तक्षक से अपने पिता परीक्षित की मृत्यु का बदला लेने के लिए नाग यज्ञ किया था।

      नीलाभ

      हटाएं
  2. उसका नाम जन्मेजय था या परिक्षित ?

    उत्तर देंहटाएं
  3. माफ़ कीजिये गुरुंग जी। उसका नाम परीक्षित था। गलती से जन्मेजय का नाम आ गया था। ठीक कर दिया है। आपके सुझाव के लिए धन्यवाद्।

    उत्तर देंहटाएं
  4. nilabh ji yadi koi apne mata pita ki jimmedariyan poore man aur sneh se poori karta hai parantu kuch anjani si galtiyon ke liye wo krodhit rahte hain aur putra ko uske bachchon sahit ghar se nikal dete hain aur roz ke unke krodh se bachne ko wo putra alag rahne lagta hai lekin unke bhojan sambandhi jimmedari ka nirvahan karta rahta hai jabki pita sampann hain aur putra vartman me utna relax nahi hai.vedon ke anusar kya putra dand ka bhagi hai?
    kabhi kabhi putra ke man me unke prati krodh jaroor aata hai.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Santosh Ji,

      Vedon ke anusar to kisi bhi sthiti me apne mata pita ko chhodna dand ka bhagi banna hai lekin aajkal ki paristhitiyon ke anusar ham har cheej vodon ko dhyan me rakh kar nahi kar sakte. Halanki agar aap mujhse vyaktigat roop se baat karen to main iske bare me aapse charcha karna chahunga.

      हटाएं